Follow us:

जबलपुर में चरित्र शंका पर पति ने पत्‍नी का हंसिये से गला काटा, शव के पास बैठकर रोता रहा

जबलपुर। आजाद वार्ड पनागर निवासी महेश कोल 50 वर्ष ने हंसिया से गला काटकर पत्नी ज्ञान बाई उर्फ नंदनी 45 वर्ष की निर्मम हत्या कर दी। वारदात को अंजाम देने के बाद खून से सनी हंसिया लेकर वह पत्नी के शव के पास बैठा रहा। महेश के छोटे भाई की सूचना पर पनागर पुलिस मौके पर पहुंची। हत्या के आरोप में महेश को हिरासत में लेते हुए शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया।

थाना प्रभारी आरके सोनी ने बताया कि गोंटिया मंदिर के सामने आजाद वार्ड निवासी महेश काेल राजमिस्त्री है। उसकी पत्नी ज्ञान बाई मजदूरी करती थी। दोनों की एकमात्र संतान 14 साल का बेटा हिमांशु है। हिमांशु बुधवार को अपनी मौसी के घर बरेला जमुनिया चला गया था। चरित्र संदेह को लेकर महेश व ज्ञान बाई के बीच घर में कहासुनी होने लगी। इस दौरान गुस्से में आकर महेश ने घर में रखी हंसिया से पत्नी ज्ञान बाई की गर्दन पर हमला कर दिया। हंसिया के ताबड़तोड़ हमले में ज्ञान बाई की दर्दनाक मौत हो गई। जिस कमरे में वारदात को अंजाम दिया गया वह खून से सन गया।

शव के पास बैठकर रो रहा था-

महेश कोल का छोटा भाई विजय कोल पैतृक मकान में अलग कमरे में परिवार सहित निवास करता है। घटना के समय वह छत्तरपुर में रेलवे गेट के पास बैठा था। तभी उसकी चचेरी भतीजी अर्चना दौड़ते हुए वहां पहुंची। उसने विजय को बताया कि महेश ने घर का दरवाजा भीतर से बंद कर रखा है। घर के भीतर से आवाज आ रही है। विजय मौके पर पहुंचा और दरवाजा खुलवाया। महेश पत्नी के शव के पास बैठकर रो रहा था।

बेटे ने किया अंतिम संस्कार-

थाना प्रभारी ने बताया कि महेश अपनी पत्नी के चरित्र पर संदेह करता था। जिसके चलते उसने वारदात को अंजाम देना स्वीकार किया है। उसने कहा कि गांव में उसकी पत्नी को लेकर तरह तरह की चर्चा होती थी। जिसे लेकर वह मानसिक रूप से परेशान हो गया था। इधर, गुरुवार दोपहर पोस्टमार्टम उपरांत ज्ञान बाई का शव गांव पहुंचा। महेश पनागर थाने में पुलिस अभिरक्षा में थां बेटे हिमांशु ने शव का अंतिम संस्कार किया। महेश को आज शुक्रवार को कोर्ट में पेश किया जाएगा।

 

Related News