Follow us:

अमेरिकी संसद में हुए हंगामे के दौरान चार लोगों की मौत, वॉशिंगटन डीसी में इंमरजेंसी

US Capitol Live Updates: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप हार मानने के लिए तैयार नहीं है, जिसके बाद ट्रंप के समर्थकों ने अमेरिकी संसद को बंधक बना लिया. इस दौरान ट्रंप समर्थकों और सुरक्षाकर्मियों के बीच झड़प हो गई. समर्थकों को रोकने और सांसदों को बचाने के लिए सुरक्षाकर्मयिों को बंदूक निकालनी पड़ी. पूरी घटना में एक प्रदर्शनकारी की गोली लगने से मौत हो गई है.

अमेरिकी संसद में हुए हंगामे के दौरान चार लोगों की मौत
अमेरिकी लोकतंत्र का आज काला दिन है. संसद में हंगामे के दौरान चार लोगों की मौत होने की खबर आई है. इससे पहले गोलीबारी में एक महिला की मौत होने की खबर आई थी.

अमेरिकी के निचले सदन यानि हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव में एरिजोना प्रांत से राष्ट्रपति चुनाव पर आए नतीजों का विरोध जताने वाला प्रस्ताव गिर गया. इसके पक्ष में 121 और विपक्ष में 303 मत पड़े.

अमेरिकी सीनेट ने एरिजोना में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की जीत का दावा खारिज कर दिया है. सीनेट ने जो बाइडेन को ही एरिजोना को विजेता माना है. वहीं अमेरिकी संसद ने भी बाइडेन को विजेता घोषित कर दिया है. वॉशिंगटन डीसी में 15 दिन के लिए इमरजेंसी घोषित कर दिया है.

डेमोक्रेटिक पार्टी के 17 सांसदों ने चिट्ठी लिखी
डोनाल्ड ट्रंप को आज ही राष्ट्रपति पद से हटाया जा सकता है. डेमोक्रेटिक पार्टी के 17 सांसदों ने चिट्ठी लिखकर ट्रंप को आज ही पद से हटाने की मांग की है.

ट्रंप का ट्विटर-फेसबुक-इंस्‍टाग्राम अकाउंट ब्लॉक
अमेरिका में ट्रंप समर्थकों ने व्हाइट हाउस और कैपिटोल हिल्स में जमकर हंगामा किया. इसके बाद ट्विटर, फेसबुक और इंस्ट्राग्राम ने ट्रंप के अकाउंट ब्लॉक कर दिए हैं. साथ ही कुछ ट्वीट और वीडियो को भी हटा दिया गया है. ट्विटर ने 12 घंटे और फेसबुक-इंस्ट्राग्राम ने 24 घंटे के लिए डोनाल्ड ट्रंप का अकाउंट सस्पेंड किया है.

अमेरिकी संसद में हिंसा के बाद सुरक्षा कड़ी कर दी गई है. न्यूयॉर्क के मेयर 1000 नेशनल गार्ड्स को सुरक्षा के लिए भेज रहे हैं. न्यूयॉर्क के मेयर से आदेश मिलने के बाद ये नेशनल गार्ड्स वॉशिंगटन डीसी जाने वाले हैं. फिलहाल वॉशिंगटन में कर्फ्यू लगा दिया गया है.

अमेरिकी संसद में हुई हिंसा पर प्रधानंत्री मोदी ने अपना बयान दिया है. पीएम मोदी ने अपने ट्वीट में कहा, "वाशिंगटन डीसी में दंगों और हिंसा की खबर से दुखी हूं. शांतिपूर्ण तरीके से सत्ता का हस्तांतरण होना चाहिए. लोकतांत्रिक प्रक्रिया को गैरकानूनी तरीके से प्रभावित नहीं होने दिया जा सकता है."

 

Related News