Follow us:

Home Loan, Personal Loan EMI पर 2 साल तक के लिए बढ़ सकती है छूट, सुप्रीम कोर्ट में हुई अहम सुनवाई

EMI चुकाने वाले लोगों के लिए यह काम की खबर है। कोरोना महामारी के चलते खुदरा लोन ग्राहकों EMI अदायगी पर इस वर्ष मार्च में जो रोक लगी थी, वह 31 अगस्त को समाप्त हो चुकी है। इस मोरेटोरियम यानी छूट के मामले में आज सुप्रीम कोर्ट में अहम सुनवाई हुई है। अदालत ने इस छूट की अवधि को बढ़ाए जाने और ब्‍याज माफ किए जाने की मांग पर लगी एक याचिका पर सुनवाई की है। इस दौरान आम जनता के लिए राहत भरी खबर सामने आई है। कोर्ट में केंद्र सरकार ने बताया है कि लोन मोरेटोरियम की अवधि को 2 साल तक के लिए बढ़ाया जा सकता है। हालांक इस पर कोर्ट का कहना है कि मोरेटोरियम में राहत के मसले पर जब केंद्र सरकार जवाब दाखिल करेगी, उसके बाद सुनवाई संभव हो पाएगी। इसमें सभी पक्षों की बात भी सुनना जरूरी है। यदि अंतिम सुनवाई में दो साल तक के लिए छूट को बढ़ाया जाता है तो आम जनता के लिए यह बहुत बड़ी राहत होगी। इसस देश के लाखों लोगों को सीधा फायदा होगा। आज सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा था कि यह समस्या ही आपके लॉकडाउन से उत्पन्न हुई है। साथ ही कोर्ट ने कहा था कि यह केवल व्यवसाय पर विचार करने का समय नहीं है, बल्कि लोगों की दुर्दशा के बारे में भी सोचना चाहिए। ब्याज पर ब्याज से छूट की मांग को लेकर दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए केंद्र को फटकार लगाई थी। कोर्ट ने कहा था कि यह मामला लंबे समय से लटका है और केंद्र को इस बारे में अपना रुख स्पष्ट करना होगा।

छूट को दिसंबर पर जारी रखने की भी थी मांग

टर्म लोन की किस्त के भुगतान पर मोरैटोरियम की अवधि 31 अगस्त, 2020 को समाप्त हो गई है। हालांकि, कोविड-19 की वजह से लेनदारों को दी गई इस छूट को दिसंबर तक जारी रखने की मांग को लेकर भी सुप्रीम कोर्ट में कई याचिकाएं लंबित हैं। शीर्ष अदालत ने इस मामले में शुक्रवार को दायर एक ताजा याचिका को भी सुनवाई के लिए स्वीकार कर लिया। न्यायमूर्ति अशोक भूषण की अध्यक्षता वाली पीठ ने शुक्रवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सुनवाई करते हुए अधिवक्ता विशाल तिवारी की ओर से दायर याचिका को मोरैटोरियम को लेकर पहले से लंबित मामलों के साथ जोड़ने का आदेश दिया था।