Follow us:

महंत नरेंद्र गिरि को दी गई भू-समाधि, पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में फांसी की वजह से दम घुटने से मौत होना बताया गया

नई दिल्ली। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के प्रमुख महंत नरेंद्र गिरि को बुधवार को प्रयागराज स्थित आश्रम में भू-समाधि दे दी गई। इस दौरान भारी संख्या में साधु-संत उपस्थित रहे। बाघम्बरी मठ में उन शव फंदे से लटका मिला था। पुलिस ने अब तक तीन लोगों को गिरफ्तार किया है, जिनमें उनका शिष्य आनंद गिरि भी है। आनंद गिरि से कल से पूछताछ हो रही है। इस बीच, बुधवार सुबह Narendra Giri का पोस्टमार्टम किया गया। पांच डॉक्टरों के पैनल में पोस्टमार्टम किया। पोस्टमार्टम में यह साफ हुआ है कि मौत फांसी लगने से हुई है। दम घुटने से मौत वाली रिपोर्ट पुलिस और संबंधित अधिकारियों को सौंप दी गई है। विस्तृत रिपोर्ट में एक-दो दिन का वक्त लगेगा। आगे की जांच के लिए विसरा सुरक्षित रखा गया है। प्रयागराज में आज सभी स्कूल-कॉलेज बंद हैं। जहां पढ़िए मामले से जुड़े हर अपडेट

आनंद गिरि से प्रयागराज पुलिस लाइन्स में पिछले करीब 12 घंटों से पूछताछ जारी है। पुलिस के आला अधिकारी अलग-अलग तरह से उससे पूछताछ कर रहे हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक, उसने खुद को निर्दोष बताते हुए यह भी कहा है कि उसके गुरुजी नरेंद्र गिरि जी महाराज आत्महत्या नहीं कर सकते हैं।

चर्चा में सुसाइड नोट, पढ़िए क्या लिखा

'मैं महंत नरेंद्र गिरि मठ बाघम्बरी गद्दी बड़े हनुमान मंदिर (लेटे हनुमान जी) वर्तमान में अध्यक्ष अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद अपने होशो हवास में बगैर किसी दबाव मैं यह पत्र लिख रहा हूं। जब से आनंद गिरि ने मेरे ऊपर असत्य, मिथ्या, मनगढ़ंत आरोप लगाया, तब से मैं मानसिक दबाव में जी रहा हूं। जब भी मैं एकांत में रहता हूं, मर जाने की इच्छा होती है। मेरे मरने के संपूर्ण जिम्मेदार आनंद गिरि, आद्या प्रसाद तिवारी जो मंदिर के पुजारी हैं, आद्या प्रसाद तिवारी का बेटा संदीप तिवारी की होगी। मैं समाज में हमेशा शान से जिया, लेकिन आनंद गिरि मुझे गलत तरीके से बदनाम किया।

Narendra Giri Post Mortem Report: अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के प्रमुख महंत नरेंद्र गिरि को बुधवार को प्रयागराज स्थित आश्रम में भू-समाधि दे दी गई। इस दौरान भारी संख्या में साधु-संत उपस्थित रहे। बाघम्बरी मठ में उन शव फंदे से लटका मिला था। पुलिस ने अब तक तीन लोगों को गिरफ्तार किया है, जिनमें उनका शिष्य आनंद गिरि भी है। आनंद गिरि से कल से पूछताछ हो रही है। इस बीच, बुधवार सुबह Narendra Giri का पोस्टमार्टम किया गया। पांच डॉक्टरों के पैनल में पोस्टमार्टम किया। पोस्टमार्टम में यह साफ हुआ है कि मौत फांसी लगने से हुई है। दम घुटने से मौत वाली रिपोर्ट पुलिस और संबंधित अधिकारियों को सौंप दी गई है। विस्तृत रिपोर्ट में एक-दो दिन का वक्त लगेगा। आगे की जांच के लिए विसरा सुरक्षित रखा गया है। प्रयागराज में आज सभी स्कूल-कॉलेज बंद हैं। जहां पढ़िए मामले से जुड़े हर अपडेट

आनंद गिरि से प्रयागराज पुलिस लाइन्स में पिछले करीब 12 घंटों से पूछताछ जारी है। पुलिस के आला अधिकारी अलग-अलग तरह से उससे पूछताछ कर रहे हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक, उसने खुद को निर्दोष बताते हुए यह भी कहा है कि उसके गुरुजी नरेंद्र गिरि जी महाराज आत्महत्या नहीं कर सकते हैं।

Narendra Giri death Updates: CM योगी आदित्यनाथ ने किए नरेंद्र गिरि के अंतिम दर्शन, बोले- दोषी को सजा अवश्य मिलेगी
Narendra Giri death Updates: CM योगी आदित्यनाथ ने किए नरेंद्र गिरि के अंतिम दर्शन, बोले- दोषी को सजा अवश्य मिलेगी
यह भी पढ़ें
Ads by Jagran.TV
Narendra Giri case Highlights: चर्चा में सुसाइड नोट, पढ़िए क्या लिखा

'मैं महंत नरेंद्र गिरि मठ बाघम्बरी गद्दी बड़े हनुमान मंदिर (लेटे हनुमान जी) वर्तमान में अध्यक्ष अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद अपने होशो हवास में बगैर किसी दबाव मैं यह पत्र लिख रहा हूं। जब से आनंद गिरि ने मेरे ऊपर असत्य, मिथ्या, मनगढ़ंत आरोप लगाया, तब से मैं मानसिक दबाव में जी रहा हूं। जब भी मैं एकांत में रहता हूं, मर जाने की इच्छा होती है। मेरे मरने के संपूर्ण जिम्मेदार आनंद गिरि, आद्या प्रसाद तिवारी जो मंदिर के पुजारी हैं, आद्या प्रसाद तिवारी का बेटा संदीप तिवारी की होगी। मैं समाज में हमेशा शान से जिया, लेकिन आनंद गिरि मुझे गलत तरीके से बदनाम किया।

पैन कार्ड खोने पर न हों परेशान, चंद मिनटों में मिलेगा e-Pan, जानिए इसका तरीका
पैन कार्ड खोने पर न हों परेशान, चंद मिनटों में मिलेगा e-Pan, जानिए इसका तरीका
यह भी पढ़ें
मैं महंत नरेंद्र गिरि... वैसे तो ये 13 सितंबर 2021 को आत्महत्या करने जा रहा था। लेकिन हिम्मत नहीं कर पाया। आज जब हरिद्वार से सूचना मिली कि एक-दो दिन में आनंद गिरि कंप्यूटर के माध्यम से मोबाइल से किसी लड़की या महिला के गलत काम करते हुए मेरी फोटो लगाकर फोटो वायरल कर देगा। मैंने सोचा कहां-कहां सफाई दूंगा। एक बार तो बदनाम हो जाऊंगा। मैं जिस पद पर हूं वह पद गरिमामयी पद है। सच्चाई तो लोगों को बाद में चल जाएगा लेकिन मैं तो बदनाम हो जाऊंगा। इसलिए मैं आत्महत्या करने जा रहा हूं। जिसकी जिम्मेदारी आनंद गिरि, आद्या प्रसाद तिवारी एवं उसका लड़का संदीप तिवारी की होगी

jagran

 

Related News