Follow us:

उज्‍जैन में सावन माह के पहले दिन बडी संख्‍या में महाकाल के दर्शन करने पहुंचे भक्‍त, नियमित दर्शनार्थियों के लिए भी समय निर्धारित

उज्जैन। सावन माह के पहले दिन आज बाबा महाकाल का आशीर्वाद पाने बड़ी संख्या में भक्त उज्जैन पहुंचे। भस्मारती दर्शन के लिए भी देश के अनेक हिस्सों से श्रद्धालु यहां पहुंचे। सावन माह के लिए महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर में विशेष व्यवस्था की गई है। जो भक्त मंदिर नहीं पहुंच पा रहे वे घर बैठे यूट्यूब पर बाबा महाकाल के लाइव दर्शन कर सकते हैं।

मंदिर समिति ने आम श्रद्धालुओं की सुविधा को ध्यान में रखते हुए गर्भगृह में बिना किसी भेदभाव के प्रवेश पर रोक लगा दी है। निर्धारित व्यवस्था के तहत श्रद्धालुओं को गणेश मंडपम से भगवान महाकाल के दर्शन होंगे। समिति ने कावड़ तीर्थयात्रियों की धार्मिक भावनाओं का भी ध्यान रखा है। देश भर से आने वाले कावड़ तीर्थयात्री कार्तिकेय मंडपम में स्थापित जल पात्र से बाबा महाकाल को जल चढ़ा सकेंगे। सावन मास में श्रद्धालुओं की बड़ी संख्या को देखते हुए आसान दर्शन, पार्किंग, सार्वजनिक परिवहन के साधन, चिकित्सा सुविधाओं आदि की व्यापक व्यवस्था की गई है। श्रद्धालुओं को विभिन्न द्वारों से प्रवेश करने की अनुमति दी जाएगी। मंदिर परिसर में सूचना बोर्ड भी लगाए गए हैं, ताकि दर्शनार्थियों को व्यवस्थाओं की जानकारी आसानी से मिल सके।

फ्री ई-रिक्शा

सभी पार्किंग स्थलों से मुफ्त ई-रिक्शा वाहन उपलब्ध हैं। यात्री गंगोत्री गार्डन और चारधाम मंदिर के सामने स्थित प्रवेश द्वार तक पहुंच सकेंगे।

यहां से मिलेगा प्रवेश

- सामान्य दर्शनार्थी : चारधाम मंदिर के सामने बेरिकेड्स से दर्शन की कतार में लगेंगे।

गुरु पूर्णिमा पर होगा भगवान कृष्ण का तिलक, देव उठनी एकादशी पर विवाह
- शीघ्र दर्शन टिकट धारी दर्शनार्थी : चारधाम मंदिर के सामने बेरिकेड्स से दर्शन की कतार में लगेंगे।

- पुजारी, पुरोहित, मीडियाकर्मी : महाकाल मंदिर के पुजारी, पुरोहित तथा मीडियाकर्मी गेट नं. 4 तथा गेट नं. 5 से प्रवेश करेंगे।

- कावड़ यात्री : चारधाम मंदिर के सामने से सामान्य दर्शनार्थियों के साथ कतार में लगकर कार्तिकेय मंडपम् से जल अर्पण करेंगे।

नियमित दर्शनार्थियों के लिए समय निर्धारित

महाकाल दर्शन करने आने वाले नियमित दर्शनार्थियों के लिए समय निर्धारित किया गया है। नियमित दर्शनार्थी सुबह 6 से 8 बजे तक शाम को 6 से 8 बजे तक गेट नं.4 से मंदिर में प्रवेश करेंगे। इन दर्शनार्थियों का निर्गम भी इसी मार्ग से होगा।

भस्म आरती दर्शन के लिए यहां से लें निश्शुल्क अनुमति

सावन मास में श्रद्धालु भस्म आरती दर्शन के लिए निःशुल्क बुकिंग करा सकते हैं। दर्शनार्थियों की सुविधा के लिए मंदिर समिति ने शक्तिपीठ हरसिद्धि मंदिर के समीप स्थित मंदिर समिति की हरसिद्धि धर्मशाला में निःशुल्क काउंटर स्थापित किया है। दर्शनार्थी यहां सुबह 7 बजे से अपनी आइडी प्रस्तुत कर निश्शुल्क अनुमति प्राप्त कर सकते हैं।

चलित भस्म आरती दर्शन

चलित भस्म आरती दर्शन करने वाले श्रद्धालु चारधाम मंदिर के सामने बेरिकेड्स से दर्शन की कतार में लगेंगे। पश्चात शंख द्वार से होते हुए फैसिलिटी सेंटर तथा टनल मार्ग से होते हुए कार्तिकेय मंडम से दर्शन करते हुए बिना रुके मंदिर के निर्गम द्वार से बाहर आएंगे। बता दें चलित भस्म आरती दर्शन के लिए किसी भी प्रकार की अनुमति लेना अनिवार्य नहीं है।

परेशानी होने पर इन नंबरों पर संपर्क करें

महाकाल दर्शन करने आने वाले दर्शनार्थियों की सहायता के लिए मंदिर समिति ने हेल्प लाइन नंबर जारी किए हैं। किसी भी प्रकार की परेशानी होने पर 0734-2550563 तथा 0734-2551295 पर संपर्क कर सकते हैं।

सावन में किस दिन कितने बजे खुलेंगे पट

सावन मास में प्रत्येक रविवार को रात 2.30 बजे तथा शेष दिनों में रात तीन बजे मंदिर के पट खुलेंगे। इसके बाद भस्म आरती होगी। आरती के उपरांत आम दर्शन का सिलसिला शुरू होगा। मंदिर के पट प्रतिदिन रात 10.30 बजे शयन आरती के बाद निर्धारित समय पर बंद होंगे।

 

Related News