Follow us:

सीमा पर बढ़े तनाव के बीच Zoom, TikTok और Helo जैसे चीनी ऐप हटाने लगे लोग

नोएडा। कोरोना काल में भले ही अनलॉक वन आ गया हो, लेकिन अभी भी लॉकडाउन माना जा सकता है। तमाम कंपनियां अपने कर्मचारियों से घर से ही काम लेने (Work From Home) में जुटी हैं। ऑफिस की मीटिंग, वीडियो कॉन्फ्रेंसिग, असाइनमेंट पूरा करने, ऑनलाइन क्लास जैसे तमाम काम ऑनलाइन ही किये जा रहे हैं। इसमें चीनी ऐप काफी मदद कर रहे थे, लेकिन सीमा पर चीन से तनाव बढ़ा। उसका गुस्सा मोबाइल यूजर्स पर आसानी से देखा जा सकता है। नोएडा के लोगों ने चीन को चुनौती देते हुए उसकी कंपनियों के ऐप अपने मोबाइल से हटाना शुरू कर दिया है। लोग रिमूव चाइना ऐप गूगल प्ले स्टोर से डाउन लोड कर आसानी से इसे अंजाम दे रहे हैं। एक ही झटके में जूम, टिक टॉक, कैम स्कैनर, हैलो, लाइकी जैसे ऐप को मोबाइल से बाहर का रास्ता दिखाया जा रहा है। इसके विकल्प में जो स्वदेशी ऐप मौजूद हैं, उन्हें डाउनलोड कर रहे हैं।

गृह मंत्रालय के मकसद को मिला साथ

लोगों के इस कार्य से गृह मंत्रालय के उस मकसद को भी बल मिलेगा जिसके लिए हाल ही में चीनी कंपनियों के ऐप को न इस्तेमाल करने की गाइड लाइन जारी की गई थी। इसमें साफ कहा गया था कि चीनी ऐप Zoom सुरक्षित प्लेटफॉर्म नहीं है। मिनिस्ट्री ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी की कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम ने भी इसे लेकर लोगों को आगाह किया था।

नोएडा एंटरप्रिनियोर्स एसोसिएशन के उपाध्यक्ष राकेश कोहली कहते हैं कि शहीद सैनिकों को श्रद्धांजलि देने एनइए कार्यालय पर आया था। गुस्सा इतना ज्यादा था कि मौके पर रिमूव चाइना एप प्ले स्टोर से डाउनलोड कर सारे चीनी एप को मोबाइल से बाहर कर दिया।

वहीं, एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल फॉर हैंडीक्रॉफ्ट के पूर्व उपाध्यक्ष राजेश कुमार जैन का कहना है कि सभी सदस्यों और अपने साथियों से अपील की जा रही है कि वह चीनी ऐप का इस्तेमाल करना बंद करें और उन्हें अपने मोबाइल से बाहर करें। अपील का तत्काल असर दिख रहा है। हालांकि ये जरूरी ऐप थे, लेकिन अब भारतीय एप्लीकेशन डाउनलोड हो रहे हैं।

 

Related News