Follow us:

WTC 2021: मैच से पहले सख्त पाबंदियां, 24 दिनों के लंबे क्वारंटीन में रहेगी टीम इंडिया

न्यूजीलैंड के खिलाफ वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप (WTC) फाइनल और इंग्लैंड सीरीज के लिए चुनी गई टीम इंडिया को शुरुआत में काफी सख्ती का सामना करना होगा। देश में कोरोना के मामलों को देखते हुए टीम को कोरोना-फ्री रखने के लिए क्रिकेट बोर्ड काफी एहतियात बरत रहा है। इन खिलाड़ियों के भारत और इंग्लैंड में मिलाकर कुल 24 दिनों तक क्वारंटीन में रहना होगा। यानी इस दौरान खिलाड़ी और सपोर्ट स्टाफ बाहरी दुनिया से बिल्कुल कटे रहेंगे।

सबसे पहले चुनी गई टीम इंडिया को मुंबई में 19 मई से शुरू होने वाले दो हफ्ते के कठिन क्वारंटीन से गुजरना होगा। साथ ही ये नियम भारतीय महिला टीम पर भी लागू होगा, जिसे इंग्लैंड में एक टेस्ट मैच, तीन वनडे और तीन टी20 मैच खेलना है। दोनों भारतीय टीमें मुंबई में इकट्ठा होंगी और दो जून को एक साथ लंदन के लिए एक चार्टर प्लेन से उड़ान भरेंगे।

BCCI की योजना के अनुसार, बाहर से मुंबई आनेवाले पुरुष टेस्ट टीम के 20 खिलाड़ी, बुधवार से होटल में अपना क्वारंटीन शुरु करेंगे। BCCI ने इनके लिए चार्टर उड़ानों की व्यवस्था की है, जो भारत के विभिन्न हिस्सों से सभी खिलाड़ियों, कोचों और सहयोगी स्टाफ को पिक कर मुंबई लाएगी। टीम के बाकी सदस्य और मुंबई में रहने वाले टीम प्रबंधन के सदस्य, जिनमें भारतीय कप्तान विराट कोहली, उपकप्तान अजिंक्य रहाणे, सीनियर बल्लेबाज रोहित शर्मा और मुख्य कोच रवि शास्त्री शामिल हैं, 24 मई से होटल में बायो-सिक्योर बबल में एंटर करेंगे। मुंबई ग्रुप 19 मई से सख्त होम क्वारंटाइन में भी रहेगा।

BCCI ने नियम बनाया है कि पुरुष और महिला, दोनों टीमों के सभी खिलाड़ियों को मुंबई के लिए उड़ान भरने से पहले तीन नेगेटिव टेस्ट रिपोर्ट दिखानी होंगी। इसके अलावा लंदन की उड़ान से पहले भी इसी तरह लगातार टेस्ट किए जाएंगे। पुरुष टीम सीधे साउथेम्प्टन जाएगी, जहां उन्हें 18-22 जून के बीच न्यूजीलैंड के साथ WTC फाइनल मैच खेलना है। यहां भी भारतीय टेस्ट टीम साउथेम्प्टन में ग्राउंड परिसर के भीतर स्थित टीम होटल में 10 दिन के क्वारंटीन से गुजरेगी। हालांकि, मुंबई में हार्ड क्वारंटीन के विपरीत, भारतीय टीम को साउथेम्प्टन बबल के भीतर नियंत्रित तरीके से ट्रेनिंग की अनुमति होगी, जिसमें टीम होटल और मैदान और प्रशिक्षण सुविधाएं शामिल होंगी।