Follow us:

पराक्रम दिवस : पीएम मोदी बोले- हर भारतीय के शरीर में बहती रक्त की एक-एक बूंद नेताजी की ऋणी

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को असम के बाद पश्चिम बंगाल पहुंच गए हैं। वे यहां नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती के अवसर पर आयोजित होने वाले दो कार्यकमों में हिस्सा ले रहे हैं। वहीं इस  कार्यक्रम के लिए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी पहुंचीं हैं। इससे पहले ममता ने आज आठ किलोमीटर लंबी पदयात्रा की। पदयात्रा के बाद जनसभा को संबोधित करते हुए उन्होंने केंद्र सरकार पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने देश की चार राजधानी बनाए जाने का सुझाव देते हुए कहा कि दिल्ली के पास ही सबकुछ क्यों होना चाहिए। उन्होंने कहा कि सरकार को चुनाव में बंगाल की याद आ रही है। साथ ही उन्होंने कहा कि नेताजी इतिहास नहीं बल्कि आवेग और संस्कृति हैं। 

नेताजी सोनार बांग्ला की भी सबसे बड़ी प्रेरणा
नेताजी, आत्मनिर्भर भारत के सपने के साथ ही सोनार बांग्ला की भी सबसे बड़ी प्रेरणा हैं। जो भूमिका नेताजी ने देश की आजादी में निभाई थी, वही भूमिका पश्चिम बंगाल को आत्मनिर्भर भारत में निभानी है।

नेताजी जिस भी स्वरूप में हमें देख रहे हैं, हमें आशीर्वाद दे रहे हैं
नेताजी जिस भी स्वरूप में हमें देख रहे हैं, हमें आशीर्वाद दे रहे हैं। जिस भारत की उन्होंने कल्पना की थी, LAC से लेकर LOC तक, भारत का यही अवतार दुनिया देख रही है। जहां कहीं से भी भारत की संप्रुता को चुनौती देने की कोशिश की गई, भारत उसका मुंहतोड़ जवाब दे रहा है।

आजाद हिंद फौज की कैंप में मैंने झंडा फहराया
जब आजाद हिंद फौज की कैंप में मैंने लाल किले पर झंडा फहराया था, उस वक्त मेरे मन मस्तिष्क में बहुत कुछ चल रहा था। बहुत से सवाल थे, बहुत सी बातें थीं, एक अलग अनुभूति थी। मैं नेताजी के बारे में सोच रहा था, देशवासियों के बारे में सोच रहा था।

हर भारतीय के शरीर में बहती रक्त की एक-एक बूंद नेताजी की ऋणी
पीएम मोदी ने कहा कि हिंदुस्तान का एक-एक व्यक्ति नेताजी का ऋणी है। 130 करोड़ से ज्यादा भारतीयों के शरीर में बहती रक्त की एक-एक बूंद नेताजी सुभाष की ऋणी है।

आजाद भारत की आजाद सरकार की नींव
पीएम मोदी बोले कि नेताजी ने संकल्प था भारत की जमीन पर आजाद भारत की आजाद सरकार की नींव रखेंगे। नेताजी ने अपना ये वादा भी पूरा करके दिखाया। उन्होंने अंडमान में अपने सैनिकों के साथ आकर तिरंगा फहराया।

नेताजी के लिए कुछ भी असंभव नहीं था
पीएम मोदी ने कहा कि नेताजी जैसे फौलादी इरादों वाले व्यक्तित्व के लिए कुछ भी असंभव नहीं था उन्होंने विदेश में जाकर देश से बाहर रहने वाले भारतीयों की चेतना को झकझोरा। उन्होंने पूरे देश से हर जाति, पंथ, हर क्षेत्र के लोगों को देश का सैनिक बनाया।

नेताजी का जीवन हम सभी के लिए बहुत बड़ी प्रेरणा
पीएम मोदी ने कहा कि आज जब इस वर्ष देश अपनी आजादी के 75 वर्ष में प्रवेश करने वाला है, जब देश आत्मनिर्भर भारत के संकल्प के साथ आगे बढ़ रहा है, तब नेताजी का जीवन, उनका हर कार्य, उनका हर फैसला, हम सभी के लिए बहुत बड़ी प्रेरणा है।

नेताजी के योगदान को पीढ़ी दर पीढ़ी याद किया जाए
पीएम मोदी ने कहा कि आज जब भारत नेताजी की प्रेरणा से आगे बढ़ रहा है तो हम सभी का कर्तव्य है कि उनके योगदान को पीढ़ी दर पीढ़ी याद किया जाए। इसलिए देश ने ये तय किया है कि अब हर वर्ष हम नेताजी की जयंती, यानी 23 जनवरी को ‘पराक्रम दिवस’ के रूप में मनाया करेंगे।

नेताजी का नाम सुनते ही हर कोई ऊर्जा से भर जाता है
मैंने अनुभव किया है कि नेताजी का नाम सुनते ही हर कोई कितनी ऊर्जा से भर जाता है। नेताजी के जीवन की ऊर्जा जैसे उनके अंतर्मन से जुड़ गई है। उनकी ऊर्जा, आदर्श, तपस्या, त्याग देश के हर युवा के लिए बहुत बड़ी प्रेरणा है।

Related News