Follow us:

तमिलनाडु में कांग्रेस के चुनावी अभियान का आगाज, राहुल गांधी पहुंचे कोयंबटूर

Tamil Nadu Election: कांग्रेस पार्टी की तरफ से साझा की गई जानकारी के अनुसार, राहुल गांधी एमएसएमई मजदूरों, किसानों और बुनकरों से मुलाकात करेंगे. ये कार्यक्रम शनिवार को कोयंबटूर के पश्चिमी जिलों और त्रिपुर के जिलों में आयोजित होंगे.

चेन्नई।  आगामी विधानसभा चुनावों (Assembly Election) के मद्देनजर कांग्रेस (Congress) ने तमिलनाडु में चुनावी अभियान (Election Campaign) की शुरुआत कर दी है. पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) शनिवार को यहां पहुंचकर लोगों से मुलाकात करेंगे. खास बात है कि राहुल एक महीने में दूसरी बार तमिलनाडु आ रहे हैं. इस दौरान राज्य में कई जगहों पर उनके रोड शो का भी आयोजन किया जाना है. राज्य में मई में चुनाव होने हैं, जबकि भारतीय जनता पार्टी (BJP) महीनों पहले से ही राज्य में काफी सक्रिय नजर आ रही है.

पार्टी की तरफ से साझा की गई जानकारी के अनुसार, राहुल गांधी एमएसएमई (MSME) मजदूरों, किसानों और बुनकरों से मुलाकात करेंगे. ये कार्यक्रम शनिवार को कोयंबटूर के पश्चिमी जिलों और त्रिपुर के जिलों में आयोजित होंगे. खास बात है कि नए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों के मुद्दे पर कांग्रेस लगातार केंद्र सरकार को घेर रही है.

ऐसा होगा राहुल गांधी का कार्यक्रम
कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सुबह कोयंबटूर पहुंचेंगे. यहां वे एमएसएमई से करीब 1 घंटे तक मुलाकात करेंगे. वहीं, इसके बाद वे अविनाशी रोड पर एक रोड शो में शामिल होंगे. वहीं, शाम 5 बजे गांधी तिरुप्पूर कुमारन के स्मारक पर पहुंचेंगे और स्वतंत्रता संग्राम सेनानी को फूल अर्पित करेंगे.

देऱ शाम गांधी करीब 5.45 बजे फैक्ट्री मजदूरों से मुलाकात करेंगे. पार्टी ने जानकारी दी है कि गांधी तमिलनाडु में तीन दिनों तक चुनाव अभियान चलाएंगे. वे इस दौरान तिरुप्पूर, इरोड, करूर जिलों को कवर करेंगे. खास बात है कि ये तीनों इलाकों को AIADMK का गढ़ माना जाता है.
बीते चुनावों की तरफ देखें, तो 2016 में कांग्रेस 41 में से केवल 8 सीटें ही अपने नाम कर सकी थी. वहीं, मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, हो सकता है कि इस बार कांग्रेस चुनिंदा सीटों पर ही चुनाव लड़े, ताकि गठबंधन जीत दर्ज कर सके. हाल ही में संपन्न हुए बिहार विधानसभा चुनावों में पार्टी का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा था. जिसके चलते कांग्रेस को अपने ही सदस्यों की आलोचना का सामना करना पड़ा था.

Related News