Follow us:

उज्जैन: सावन की दूसरी सवारी में दो रूपों में भक्तों को दर्शन देने निकले भगवान महाकाल

उज्जैन। श्रावण मास में सोमवार को भगवान महाकाल की दूसरी सवारी निकाली गई। भगवान महाकाल ने भक्तों को दो रूपों में दर्शन दिए। अवंतिकानाथ चांदी की पालकी में मनमहेश और हाथी पर चंद्रमौलेश्वर रूप में सवार होकर नगर भ्रमण के लिए निकले हैं।

मंदिर प्रशासन इस बार भी नए मार्ग से सवारी निकाल रहा है। दोपहर बाद 3.30 बजे मंदिर के सभा मंडप में कलेक्टर आशीषसिंह भगवान भगवान के मनमहेश रूप का पूजन कर पालकी को नगर भ्रमण के लिए रवाना किया। मंदिर के मुख्य द्वार पर सशस्त्र बल की टुकड़ी अवंतिकानाथ को सलामी दी।

इसके बाद कारवां बड़ा गणेश मंदिर के सामने से हरसिद्धि चौराहा, झालरिया मठ के रास्ते से सिद्घ आश्रम होते हुए मोक्षदायिनी शिप्रा के रामघाट पहुंचेगा। यहां पुजारी शिप्रा जल से भगवान का जलाभिषेक कर पूजा अर्चना करेंगे। पूजन पश्चात सवारी रामानुजकोट, हरसिद्धि की पाल होते हुए हरसिद्घि मंदिर के सामने पहुंचेगी। यहां शक्तिपीठ के पुजारी पालकी का पूजन करेंगे। शाम को पालकी पुनः मंदिर पहुंचेगी।

 

Related News