Follow us:

अमेरिका का फैसला- 'ऑनलाइन क्लास लेने वाले स्टूडेंट्स को छोड़ना होगा देश', दो लाख भारतीय छात्र ज़द में

इमीग्रेशन एंड कस्टम एनफोर्समेंट डिपार्टमेंट ने यह आदेश जारी किया है. अमेरिका में ऑनलाइन क्लास लेने वाले सभी विदेशी छात्रों को देश छोड़ना होगा.

वॉशिंगटन। ट्रंप प्रशासन ने अमेरिका में रहने वाले विदेशी छात्रों के लिए नए दिशा-निर्देश जारी किए हैं. प्रशासन ने कहा है कि जिन स्कूल और कॉलेजों में सभी क्लासेज ऑनलाइन कर दी गई है, वहां के सभी विदेशी छात्रों को अमेरिका छोड़ना होगा या दूसरे संस्थान में तबादला कराना होगा. इस फैसले से कुल 10 लाख विदेशी छात्रों पर असर पड़ेगा, इनमें 2 लाख से ज्यादा भारतीय हैं.

अमेरिकी आव्रजन एवं सीमा शुल्क प्रवर्तन द्वारा जारी किए गए दिशा-निर्देशों ने यूनिवर्सिटी पर परिसर खोलने को लेकर अतिरिक्त दबाव बना दिया है. वह भी ऐसे समय में जबकि हाल ही में युवकों में कोरोना के मामले अधिक सामने आए हैं. कॉलेज को भी नए दिशा-निर्देशों की जानकारी दे दी गई. हार्वड यूनिवर्सिटी समेत कई शैक्षणिक संस्थानों ने ऑनलाइन कक्षाएं आयोजित करने की घोषणा भी कर दी है.

क्लासेज जल्द शुरू करने की प्रशासन की कोशिश
अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने स्कूल और कॉलेजों को जल्द से जल्द परिसर में क्लासेज शुरू करने को कहा था. इसके तुरंत बाद ही यह नए दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं. ट्रंप ने टि्वटर पर कहा था कि इस शरदऋतु में स्कूल जरूर दोबारा खुल जाने चाहिए. साथ ही उन्होंने आरोप लगाया था कि डेमोक्रेट पार्टी 'राजनीतिक कारण से स्कूल बंद रखना चाहती है, स्वास्थ्य कारणों की वजह से नहीं'. ट्रंप ने कहा था, "उन्हें लगता है कि इससे नवंबर में उन्हें मदद मिलेगी. गलत, लोगों को सब समझ आ रहा है."

नियमों के तहत, विदेशी छात्रों को कम से कम कुछ कक्षाएं परिसर जाकर लेनी होंगी. उन स्कूलों या पाठ्यक्रमों के लिए नए वीजा जारी नहीं किए जाएंगे, जहां सभी कक्षाएं ऑनलाइन हो रही हैं. यहां तक की जिन कॉलेजों में इस शरदकाल में परिसर में और ऑनलाइन दोनों तरीके से कक्षाएं आयोजित की जा रही हैं, वहां विदेशी छात्रों को ऑनलाइन कक्षाएं नहीं लेने दिया जाएगा. इससे कोरोना वायरस के कारण अमेरिका में फंसे विदेशी छात्रों के लिए यकीनन परेशानी खड़ी हो गई है.

 

Related News