Follow us:

विराट ने किया टी-20 वर्ल्ड कप के बाद कप्तानी छोड़ने का ऐलान, चिट्ठी में लिखा- सफर में साथ देने वाले हर इंसान का शुक्रिया

नई दिल्ली। विराट कोहली ने टी-20 फॉर्मेट की कप्तानी छोड़ने का ऐलान कर दिया है। इंग्लैंड दौरे के बाद से ही उनको हटाए जाने की चर्चा थी, लेकिन शुरुआत में BCCI इससे इनकार करता रहा। कोहली ने गुरुवार को खुद ही एक खत ट्वीट कर ऐलान कर दिया कि वे टी-20 वर्ल्ड कप के बाद इस फॉर्मेट की कप्तानी छोड़ देंगे। अब इस फॉर्मेट में रोहित शर्मा को कप्तान बनाया जा सकता है।

सोशल मीडिया में विराट कोहली की पोस्ट, जिसमें उन्होंने कप्तानी छोड़ने के फैसले की जानकारी दी।

कोहली ने चिट्ठी में लिखा- सफर में साथ देने वाले हर इंसान का शुक्रिया
कोहली ने चिट्ठी में लिखा, 'मैं बेहद सौभाग्यशाली रहा हूं कि मुझे न केवल भारत का प्रतिनिधित्व करने का मौका मिला, बल्कि अपनी पूरी क्षमता के साथ इसकी कप्तानी करने का भी मौका मिला। भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान के तौर पर मेरी यात्रा का साथ देने वाले हर एक इंसान को मैं शुक्रिया कहता हूं। टीम के लड़कों, सपोर्ट स्टाफ, सिलेक्शन कमेटी, कोच और हमारी जीत की प्रार्थना करने वाले हर भारतीय के बिना मैं ये नहीं कर सकता था।'

'मुझे थोड़ा सा स्पेस चाहिए'

उन्होंने कप्तानी छोड़ने की वजह भी बताई। लिखा, 'मैं यह समझ रहा हूं कि वर्क लोड बेहद अहम होता है। मैं पिछले 8-9 साल से तीनों फॉर्मेट में खेल रहा हूं और 5-6 साल से लगातार कप्तानी भी कर रहा हूं। मैं महसूस कर रहा हूं कि टेस्ट और वनडे में टीम इंडिया की कप्तानी के लिए खुद को पूरी तरह से तैयार करने के लिए मुझे थोड़ा सा स्पेस चाहिए। टी-20 के कप्तान के तौर पर मैंने टीम को अपना सबकुछ दिया। आगे भी एक बल्लेबाज के तौर पर मैं टी-20 टीम में अपना योगदान जारी रखूंगा।'

शास्त्री और रोहित से की फैसले पर चर्चा

उन्होंने लिखा कि निश्चित तौर पर ऐसे फैसले पर आने में वक्त लगता है। टीम लीडरशिप के बेहद जरूरी हिस्से रवि भाई, रोहित और अपने करीबियों से लंबे विचार-विमर्श के बाद मैंने टी-20 वर्ल्ड कप के बाद इस फॉर्मेट की कप्तानी छोड़ने का फैसला किया है। मैंने BCCI के अध्यक्ष सौरव गांगुली, सेक्रेटरी जय शाह और सभी सिलेक्टर्स से इस बारे में बात की है। कोहली ने लिखा कि मैं अपनी पूरी ताकत के साथ भारतीय क्रिकेट और भारतीय क्रिकेट टीम की सेवा करता रहूंगा।

रोहित हो सकते हैं कप्तान, 2 वजहें
पहली: पिछले दो सालों से क्रिकेट की दुनिया के कई जानकार पहले ही कई बार ये बात कह चुके हैं कि टी-20 फॉर्मेट की कमान हिटमैन के हाथों में सौंप देनी चाहिए। साथ ही इस फॉर्मेट में उनका जीत प्रतिशत 78.94 रहा है। टीम इंडिया ने रोहित की कप्तानी में 19 मैच खेले हैं, 15 मैच जीते हैं और 4 में हार मिली है। टी20 में विराट की कप्तानी में टीम इंडिया ने 60% मैच जीते हैं। कोहली की कप्तानी में 45 टी20 मैच खेले हैं, जिसमें 27 मैच जीते हैं और 14 मैच में हार का सामना करना पड़ा है। 2 मैच के नतीजे नहीं निकले।

दूसरी: 2013 में मुंबई इंडियंस ने टूर्नामेंट के बीच में रिकी पोंटिंग से कप्तानी लेकर रोहित शर्मा को कमान सौंप एक बड़ा दांव खेला था। मुंबई का यह दांव टीम के काम आया और फ्रेंचाइजी पहली बार ट्रॉफी जीतने में सफल रही। इसके बाद रोहित ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। रोहित 5 आईपीएल ट्रॉफी जीत चुके हैं। रोहित ने मुंबई को 2013, 2015, 2017, 2019 और 2020 के IPL खिताब जिताए।

इंडियन कैप्टन में कोहली का विनिंग परसेंटेज बेस्ट
मौजूदा समय में भारत के सबसे सफल कप्तान का चयन किया जाए तो कोहली का नाम महेंद्र सिंह धोनी और मोहम्मद अजहरुद्दीन के बाद तीसरे स्थान पर आता है। धोनी ने भारत को अपनी कप्तानी में ICC के 3 खिताब जीताए। अजहरुद्दीन के कार्यकाल में भारत ने तीन वर्ल्ड कप खेले और कोहली की अगुवाई में टीम अभी तक 3 ICC टूर्नामेंट के नॉकआउट में पहुंची है।

इंटरनेशनल क्रिकेट में धोनी की जीत प्रतिशत 53.61 का रहा, जबकि अजहरुद्दीन ने 47.05 प्रतिशत मुकाबले जीते। विराट की बात की जाए तो उनका विनिंग परसेंटेज 63.41 का रहा है। सौरव गांगुली की गिनती भी देश के सफल कप्तानों में की जाती है। दादा का जीत प्रतिशत 49.48 रहा। 

 

 

Related News