Follow us:

राष्‍ट्रपति चुनाव में यशवंत सिन्‍हा होंगे विपक्ष का चेहरा, विपक्षी दलों की बैठक में लिया गया सर्वसम्मति से फैसला

नई दिल्‍ली। राष्ट्रपति चुनाव को लेकर आज विपक्षी दलों (Opposition Meeting) की बैठक हुई. बैठक के बाद विपक्ष ने उम्मीदवार के तौर पर यशवंत सिन्हा (Yashwant Sinha) के नाम का एलान किया. इस बैठक में जयराम रमेश, शरद पवार, डी राजा, प्रफुल्ल पटेल, सीताराम येचुरी, मल्लिकार्जुन खड़गे, रणदीप सुरजेवाला, हसनैन मसूदी (नेशनल कॉन्फ्रेंस), रामगोपाल यादव, ओवैसी की पार्टी के सांसद इम्तियाज जलील समेत कई नेता पहुंचे. बैठक में कुल 15 पार्टियां शामिल हुईं. शरद पवार (Sharad Pawar) ने कहा कि टीआरएस, आम आदमी पार्टी और शिवसेना बैठक में नहीं थी, लेकिन तीनों पार्टियां यशवंत सिन्हा का समर्थन करेंगी.

बैठक के बाद कांग्रेस नेता जयराम रमेश (Jairam Ramesh) ने कहा कि विपक्षी दलों ने सर्वसम्मति से फैसला किया है कि यशवंत सिन्हा राष्ट्रपति चुनाव के लिए विपक्ष के उम्मीदवार होंगे. उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति पद के लिए यशवंत सिन्हा का नामांकन 27 जून को 11.30 बजे दिन में होगा. विपक्ष ने कहा कि हम बीजेपी, उसके सहयोगियों से राष्ट्रपति के रूप में यशवंत सिन्हा का समर्थन करने की अपील करते हैं ताकि हम एक योग्य 'राष्ट्रपति' को निर्विरोध चुन सकें.

सिन्हा दो बार केंद्रीय वित्त मंत्री रह चुके है. पहली बार वह 1990 में चंद्रशेखर की सरकार में और फिर अटल बिहारी वाजपेयी नीत सरकार में वित्त मंत्री थे. वह वाजपेयी सरकार में विदेश मंत्री भी रहे हैं.

बैठक से पहले यशवंत सिन्हा ने किया था ट्वीट

वहीं, इस बैठक में शामिल होने से पहले टीएमसी नेता यशवंत सिन्हा ने एक ट्वीट कर बड़े राष्ट्रीय कारणों के लिए टीएमसी के काम से अलग हटने की घोषणा की थी. यशवंत ने ट्वीट कर कहा था कि, जो सम्मान और प्रतिष्ठी दी उसके लिए मैं मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को शुक्रिया करता हूं. उन्होंने आगे कहा कि अब वो वक्त आ गया है जब पार्टी से हटकर एक बड़े उद्देश्य के लिए काम करना है.

बीजेपी ने भी बुलाई है बैठक

बता दें कि, आज सत्ता पक्ष (Ruling Party) की ओर से भी बैठक बुलाई गई है. राष्ट्रपति चुनाव को लेकर बीजेपी ने आज शाम संसदीय दल की बैठक बुलाई है. इस बैठक को मंथन बैठक का नाम दिया गया है. सूत्रों के अनुसार पीएम मोदी भी इस बैठक में शामिल हो सकते हैं. इससे पहले बीजेपी की ओर से पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को उम्मीदवार के नाम पर सहमति बनाने के लिए जिम्मेदारी सौंपी गई थी.

राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान 18 जुलाई को

दोनों ने राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के नाम पर सहमति बनाने के लिए राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar), तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ममता बनर्जी (Mamata Banerjee), जनता दल (यूनाइटेड) प्रमुख नीतीश कुमार (Nitish Kumar), बीजू जनता दल (बीजद) प्रमुख नवीन पटनायक (Naveen Patnaik) सहित कई अन्य नेताओं से बात की है. राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान 18 जुलाई को होगा जबकि मतगणना के लिए 21 जुलाई की तारीख तय है. मौजूदा राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (Ramnath Kovind) का कार्यकाल 24 जुलाई, 2022 को समाप्त हो रहा है.

 

Related News